​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#व्यंग्य - अमेरिका की आत्मकथा

द यूनाइटेड स्टेट ऑफ़ अमेरिका मेरा पूरा नाम है, परन्तु बस्ती में मैंने अपना नाम सिर्फ अमरीका बताया है। मेरे जन्म के बारे और मेरे बारे में अधिक जानकारी के लिए विकिपीडिया पढ़ लो। आज मै यहाँ आप लोगो को जो बताऊंगा वो सब कुछ आप पहले से जानते है पर में जो भी बताऊंगा उसे सुनने में आपको मज़ा आएगा। और यदि मज़ा नहीं आया तो मुझे बता देना मै सीआईए वालो को भेजकर आपको रेल दूंगा। यदि आप सीआईए को  नहीं जानते तो मैं आपको बता दू की सीआईए हमारे देश की एक सरकारी संस्था है जो हमारे सभी गलत कामो को अंजाम देती हो।  हमें किसी का क़त्ल करना है या फिर किसी के बारे में कोई जानकारी पता करनी है सीआईए हमारे सारे नाजायज काम को जायज तरीके से करती है। 

अमरीका, मै पुरे विश्व का सबसे अमीर देश हूँ , कम से कम अभी तक तो नासा ने यही बताया है की इस ब्रह्माण्ड में हमसे धनी देश कोई और नहीं है। नासा मेरी सबसे बड़ी वैज्ञानिक संस्था है। और हमारे देश में बढ़ते कूड़े करकट को देखते हूए मै ये जरूर कहूँगा की जल्द ही नशा चाँद पर कूड़ा करकट पहुचाने का रास्ता ढूंढ लेगा और फिर कुछ वर्षो के बाद नासा चाँद को कूड़े करकट से कैसे बचाये इसका शोध करेगी।नासा विश्व की भी सबसे बड़ी वैज्ञानिक संस्था है। अधिकतर मेरे देश की सभी संस्थाए विश्व की सबसे बड़ी संस्था है।  चीन हमसे आगे निकलने की कोशिश कर रहा है परन्तु जिस दिन वो हमारे गिरफ्त में आ गए उसे हम ऐसे रेल देंगे जैसे हिरोशिमा में जापानियों को रेला था। और चीन की आने वाली नस्ले भी हमसे आगे निकलने के बारे में नहीं सोच पाएंगी।

मै इस विश्व का सबसे अमिर देश होने का पूरा फायदा उठाता हूँ। लोग मुझे विश्व की बड़ी शक्ति कहकर बुलाते है।  मै खुद पुरे विश्व के लिए कानून बनाता हूँ।  यदि कोई हमारी बात नहीं माने और उसका सैनिक बल हमसे कमजोर है तो हम उसे खड़े खड़े रेल देते है। हा तो जैसा मैंने बताया की यदि कोई छोटा गरीब देश हमारी बात नहीं माने तो हम उसे रेल देते है इसलिए लोगो का हमसे डरना लाजमी है। अमरीका मेरा नाम है। 

आप लोगो ने ओसामा बेन लादेन का नाम सुना है।  सुना ही होगा साले ने मेरे देश में आतंकी हमला किया। मेरे कई नागरिक को जान से मार डाला और उसके बाद मैंने उसे उसके घरे में जाकर रेल दिया। लेकिन मुझे इस बात का दुःख है की उसे खिला पिला के इतना बड़ा मैंने ही किया था।  शीत युद्ध के दौरान हमने ही रूस के खिलाफ लड़ने के लिए ओसामा बेन लादेन को सारी जरूरत के सामान (गोल, बारूद , राईफल, मोर्टार) की व्यवस्था की थी।  जब अफगानियों ने हमसे पढने लिखने के लिए मदत मांगी तो हमने साफ मना कर दिया। जब तक लोग कम पढ़े लिखे और गरीब रहेंगे तब तक मेरा पावर बरक़रार रहेगा। कुछ यही नीति भारत के नेताओ ने अपनाई है। 

हमने पिछले कई सालो में ईराक, अफगानिस्तान और लीबिया जैसे कई देशो को ठोक-ठोक कर ऐसा बिगाड़ दिया की अब उसे किसी का बाप भी नहीं सुधर सकता है। हमने इन देशो के इतने नागरिको को जान से मार दिया की आप उनकी गिनती करेंगे तो बेहोश हो जायेंगे और इतने लोगो को मारने के बाद भी मैं विश्व में मानवाधिकार का पालन करने वाला नंबर एक देश हूँ। यदि आप के देश में तेल के कुएं है तो आपको भी मुझसे डरना चाहिए। मेरे लोग आप के देश में अव्यस्था फैलाने में पुरे जोर शोर से लगे है और जल्द ही मै आपके देश के कुंओ का मालिक बन जाऊंगा। और हा यदि आप के यहाँ तेल के कुंए नहीं है और आप अपनी मेहनत और लगन से आगे बढ़ रहे है तो भी मैं आपको रेलने पहुंच जाऊंगा। 

आपका प्यार बड़ा भाई 
अमरीका

नोट : कृपया इस लेख के बारे में अपनी राय नीचे कमेंट में जरूर लिखे।  

4 टिप्‍पणियां: