​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - चिड़ियां



वो जो चिड़ियां हर शनिवार
दाना खाने आ​ती ​थी
आज नदारद है खिड़की पर से।

​अचानक एक चिड़ियां ने
खिड़की पर दस्तक दी,
कहती है हमे भी चाय पिलाओ और
टोस्ट जरा डीप चाय में डुबाकर खिलाओ।

मै जब चाय लेकर आया
तो उसने मना कर दिया पिने से,
कहेती है दूध की मलाई,
जो तुम्हारी चाय में होती है
वो कहा है मेरी चाय में।

टोस्ट उसके सामने रख्खा,
तो झट वो फिर रूठ गई,
कहा इसके ऊपर से मस्का,
कहा निकाल कर रख दिया तुमने।

अब हर शनिवार खिड़की पर
जाकर बैठ जाता हूँ।
साथ में मलाई वाली चाय
और मस्का ले जाता हूँ।

सुना है की पास वाली बस्ती
के सारे पेड़ काट दिए है
गुनहगारो ने अपने घर बसाने
के लिए मेरी प्यारी चिड़िया के घर
उजाड़ दिए है।

वो जो चिड़ियां हर शनिवार
दाना खाने आ​ती ​थी
आज नदारद है खिड़की पर से।


आने वाले सोमवार को मिलेंगे एक करारे व्यंग के साथ।

4 टिप्‍पणियां: