​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#व्यंग्य - राहुल जैक्सन (द डांसर)

राहुल के परदादा जी के पिताजी का नाम मोतीलाल डावर था। वो पेशे से वकील थे। भारत मे जब अंग्रेजों का शासन काल था तब मोतीलाल डावर की बहुत पैठ थी। राहुल के परदादा का नाम नेहरू डावर था। उन्होंने ने भी अपने पिताजी की तरह वकालत की तालिम ली परंतु उन दिनों भारत में हर कोई अपना डांसिग ग्रुप बना रहा था। डांसिग ग्रुप से नाम कमाना बहुत आसान था, नेहरू को वकालत रास नही आई और उन्होंने एक डांसिग ग्रुप ज्वाइन कर लिया।

नेहरू के डांसिग की चर्चा हर जगह होने लगी। जानकारो का मानना है कि नेहरू से भी अच्छे कई डांसर उस समय थे लेकिन नेहरू के पारिवारिक पैठ के चलते उन्हें मौके पर मौका मिलता रहा। १९४७ में भारत आजाद हुआ तो नेहरू डावर को भारत के पहले डांसिंग ग्रुप का बेस्ट डांसर चुना गया। पूत के पाव पालने में दिख जाते हैं। नेहरू की पुत्री डांस करने में उस्ताद थी लेकिन उसने आगे चलकर अपने पिताजी के ग्रुप को छोड़कर दूसरा डांसिंग ग्रुप ज्वाइन कर लिया।

नेहरू डावर अपनी पुत्री के इस कदम से आहत हो गए और उससे अपना सरनेम डावर ले लिया। उस समय डांस जगत में जैक्सन सरनेम बहुत चल रहा था और जैक्सन ने इंदू के डांस के प्रति श्रद्धा को देखकर उसे अपना सरनेम दे दिया और इस तरह इंदू डावर से इंदु जैक्सन का जन्म हुआ जिसने आगे चलकर कुछ समय के लिए भारत के सभी डांसर ग्रुप पर बैन लगा दिया था । इंदू के एक बेटे ने एक इटली की महिला को अपने डांस ग्रुप में शामिल कर लिया और फिर उससे शादी कर ली। और उनकी शादी के कुछ दिनों बाद  हमारे राहुल जैक्सन - द डांसर का जन्म हुआ।

ए पांव मेरे तो तभ भी थिरकते थे,
जब चलना आता नही था, तरर् तरर् 

राहुल जैक्सन का हाल इसके विपरीत था। राहुल जैक्सन तो ढंग से दो कदम चल भी नही पाते थे परंतु जैक्सन घराने मे जन्म लेने के कारण उन्हें सिर्फ डांसर बनने के गुण खोजे जाने लगे। राहुल जैक्सन का बचपन बहुत बुरा गुजरा पहले उनकी दादी और फिर उनके पिता की मृत्यु एक बहुत बड़े स्टेज कार्यक्रम के दौरन हो गई थी। दूसरे ग्रुप के डांसर ने दोनो को जान से मरवा दिया। राहुल जैक्सन में डांसर बनने की एक भी कला नहीं थी और बचपन की घटनाओं के कारण उनका मन डांसर बनने से डरता था।

जैक्सन ग्रुप के लोगों को डर था यदि राहुल जैक्सन डांसर नही बने तो जैक्सन ग्रुप टूट जाएगा और इसलिए उन्होंने राहुल जैक्सन की मर्जी के खिलाफ उसे डांसर बना दिया। राहुल जैक्सन के डांसर बनते ही उन्होंने जितने भी डांस कार्यक्रम किया सभी को जनता ने नापसंद कर दिया। राहुल जैक्सन से बढ़िया डांस तो नालासोपारा का नगर डांसर कर सकता है परंतु जैक्सन ग्रुप वाले ना चाहते हुए भी राहुल जैक्सन को जबरदस्ती नचा रहे थे।

राहुल जैक्सन का डांस इतना खराब था कि इंडियास गॅाट टैलेंट मे उनके डांस के शुरू होते ही तीनो जजो ने डांस रोकने का बजर बजा दिया जिसके चलते २०१४ के इंडियास गॅाट टैलेंट में जैक्सन ग्रुप को  बुरी हार का समना करना पड़ा पूरे देश में उनके टिकट सिर्फ ४४ जगह बिके और बाकी जगह से शॅा कैंसल हो गया। राहुल जैक्सन आज भी डांस कर रहे हैं लेकिन वो डांसर नहीं बन पाएंगे  क्योंकि बहुत कम लोग ए बात जानते हैं कि उनका पांव टेढ़ा हैं, जिसका खुलासा विकीलीक्स ने कुछ दिन पहले किया था।

भगवान से प्रार्थना करूँगा की फिर किसी राहुल जैक्सन को द डांसर नही बनना पड़े और उनकी रूचि यदि कार्टून बनाने मे है तो उन्हें उसकी पूरी आजादी हो।


अगले सोमवार फिर मिलेंगे एक नए व्यंग्य के साथ।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें