​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#व्यंग्य - मैं नाथुराम गोडसे - गाँधी को मोक्ष देने वाला

आप सभी को लगता है कि मैंने गाँधी का ट्विटर अकाउंट हैक करके डिलीट कर दिया। आप सभी को ऐसा लगना जायज है क्योंकि मेरे बारे में आज तक आपने जो भी पढ़ा-सुना सब जगह मुझे ही गाँधी के अकाउंट हैक करने का जिम्मेदार ठहराया गया है। जिन किताबों और ब्लॉग में मेरे पहलू से गाँधी को सेलेब्रिटी बनाने का जिक्र है उन्हें भारत की सरकार ने कभी आप तक पहुंचने का मौका नही दिया, हर सरकार आते ही गुगल को पत्र लिखकर मेरे ऊपर लिखे सेलेब्रिटी बनने के मार्केटिंग टिप्स वाले URL ब्लॉक करवा देती है, यदि कभी वो किताब या ब्लॉग आपको मिल जाए तो पढ़ना फिर आप भी मेरे फैन अकाउंट को फॅालो करने लगेंगे।

बापू ने अपना पूरा जीवन अपने ट्विटर अकाउंट के फॅालोवर बढ़ाने मे लगा दिया था। समय पर आकर ट्वीट करना और अपने कुछ गिने चुने चाटुकारिता करने वालों को रीट्विट करना ही बापू का काम था। धीरे धीरे बापू ट्विटर पर सेलेब्रिटी बन रहे थे लेकिन तभी भगत सिंह के ट्विटर अकाउंट पर फॅालोवर बापू की अपेक्षा दुगुनी गति से बढ़ने लगे। बापू ने भगत सिंह के बढ़ते फॅालोवर देखकर भगत सिंह के ट्वीट को रीट्विट करना बंद कर दिया। बापू का ट्वीट धीरे धीरे कमजोर पड़ रहा था और भगत सिंह का ट्वीट मजबूत होते जा रहा था।

एक दिन भगत सिंह, उनके साथी सुखदेव और राजगुरु ने एक अंग्रेजी दरोगा का अकाउंट हैक करके डिलीट कर दिया। वो दरोगा रोज अपने अकाउंट से गरीब लोगों को ट्रोल करता और उन्हें ब्लॉक कर देता। लेकिन उस दरोगा का अकाउंट डिलीट करने के जुल्म में भगत सिंह और उनके साथियों का अकाउंट डिलीट करने का फरमान जारी हो गया। इस सजा के होने के बाद हम सब को ये उम्मीद थी कि बापू देश के लिए कुर्बानी देनेवाले इन क्रांतिकारियों के अकाउंट बचाने के लिए ट्विटर पर किसी हैशटैग की पहल करेंगे परंतु हमारे लाख निवेदन के बाद भी बापू ने भगत सिंह के अकाउंट को ना डिलीट करने के लिए किसी भी तरह का हैशटैग ट्रेंड करवाने से मना कर दिया। गाँधी को डर था यदि वो भगत सिंह के ट्विटर अकाउंट के बचाव का पहल करेंगे तो उनके फॅालोवर भगत सिंह को भी फॅालो करने लगेंगे और भगत सिंह ट्विटर पर उनसे बड़े सेलेब बन जाएंगे।

आखिरकार अंग्रेजी सरकार ने भगत सिंह,राजगुरु और सुखदेव के ट्विटर अकाउंट को डिलीट कर दिया, यदि गांधी को सेलेब्रिटी बनने का लोभ नही होता तो इन सभी क्रांतिकारियों का अकाउंट डिलीट होने से बच सकता था।

भारत को आजाद होते ही अपने चहिते चाटुकार नेहरू को ट्विटर पर सेलेब्रिटी बनाने के चक्कर में उन्होने भारत के सभी ट्विटर युजर को हिंदुस्तान और पाकिस्तान में बाट दिया। जिन्हा के पास फॅालोवर की कमी नही थी उसके सब फॅालोवर जिन्हा के सारे ट्वीट आँख बंद करके रीट्विट करते थे लेकिन नेहरू के ट्वीट लिंक भेजने पर भी ज्यादा रीट्विट नही हो पाते थे। गाँधी सभी को डीएम करके नेहरू के ट्वीट, अनशन का वास्ता देकर रीट्विट करवाते थे। भारत के दो हिस्से होने के बाद भी बापू ने सिर्फ अपने अंधे प्यार के चलते नेहरू को ट्विटर पर 
#ff देते रहें। हम सभी को लगा कि सरदार  पटेल के ट्वीट अधिक दमदार है इसलिए बापू को उन्हें #ff देना चाहिए लेकिन बापू इस बात के लिए तैयार नही थे।

गाँधी के अनशन के डर से कोई भी उनके ट्वीट के खिलाफ नही बोल रहा था लेकिन अंग्रेजों के इतने साल ट्वीट पढ़ने के बाद फिर से गैर जिम्मेदार लोगों का ट्वीट पढ़ना मुझे मंजूर नही था। मैं ने ट्विटर अकाउंट देश सेवा के लिए बनाया था और अब मेरा जमीर रोज मुझे देशभक्ति के लिए ललकारने लगा। ट्विटर पहले हिंदू-मुसलमान और फिर सवर्ण और दलित में बट गया। दलितों को फॅालो बैक के लिए ट्विटर पर आरक्षण मिल गया। अपने भारतीय ट्विटर युजर का ये हाल मुझसे नही देखा जा रहा था। मैं ने कुछ लोगों को अपने साथ लेकर ट्विटर अकाउंट हैक करने की ट्रेनिंग ली। एक दिन शाम के वक्त गाँधी जब अपने ट्विटर अकाउंट ने प्रार्थना ट्वीट करके लॉग आउट कर रहे थे तब मैं ने उनका सिक्योरिटी वॅाल तोड़कर उनका अकाउंट तीन प्रयत्न में हैक करके डिलीट कर दिया।

गाँधी का अकाउंट हैक करने के कुछ महीनों बाद भारत सरकार ने  मेरा अकाउंट ससपेंड करके डिलीट कर दिया लेकिन याद रखना मैं ने ये सब मेरे देश के लिए किया। मेरी मार्केटिंग टिप्स पढ़ना आप सब समझ जाओगे ओ ट्विटर पर सेलेब्रिटी बन जाओगे और समझ जाओगे की मैंने गांधी को नहीं मारा बल्कि अमर कर दिया। 

जय हिंद,
नाथुराम गोडसे 
फ्रॉम ट्विटर आर्काइव 

पों पों - अगले सोमवार फिर आना बस्ती में, एक नई रचना के साथ आपका स्वागत होगा। 

आप अपनी राय और सुझाव हमें नीचे टिप्पणी में लिख सकते है।

टिप्पणियाँ

  1. आपके इस लिंक को ठेलना तो बनता है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद - लेकिन अगली बार से स्वयं पढ़ लेना

      हटाएं
  2. शानदार
    गाँधी और भगत सिंह के वी विचारधाराओं को कमाल के शब्दों में पिरोया है
    नमन स्वीकारे _/\_

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्तर
    1. धन्यवाद - आते रहिएगा पुरानी बस्ती में

      हटाएं
  4. बढ़िया लिखा है.. मगर इतना दिमाग पढाई में लगाते तो अच्छे रैंक से इंजीनियरिंग पास करते..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत खूब कमल बाबू, देखना कही गांधी फैन क्लब का कोई फॉलोवर सरकार से ना बोल दे की ये नाथूराम के मार्केटिंग टिप्स का प्रसार कर रहा है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अभी भाजपा सरकार में डरने की जरुरत नहीं है ​:)

      हटाएं
  6. शानदार जबरदस्त जिंदाबाद

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें