​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#हास्य - SRK का बॅाम्बे वेलवेट के खिलाफ षड्यंत्र

चित्रांकन - चेतन अडलक 
एक समय की बात है कि एक टीवी शो पर करण जौहर कुछ कलाकारों को गाली देते हुए कह रहे थे कि तुम्हें अनुराग कश्यप ने ढूंढ कर लाया है क्या? यदि अभिनय करने का इतना शौक है तो जाकर थियेटर करो यदि मेरे साथ काम करना है तो सही ओवरएक्टिंग करना जरूरी है, ओवरएक्टिंग करने नही आती तो जाकर किरण खेर जी से सीखो। ओवरएक्टिंग के हुनर ने  किरण खेर को आज बुलंदीयो  पर पहुंचा दिया।

अनुराग कश्यप के बारे में आप सब जानते होंगे। कश्यप जब तक अपनी फिल्म में गाली गलौज ना करवा ले उसे उसमें वास्तविक सिनेमा की झलक नही दिखती है। अपनी पहली फिल्म में हस्थमैथुन के दृश्य को दिखाने के चक्कर में उस फिल्म ने कभी सिनेमाघर का दरवाजा भी नही देखा। रामगोपाल वर्मा की फिल्म सत्या में कश्यप ने कहानी और संवाद पर बेहतरीन काम किया परंतु रामू की आग के बाद उसकी बेचारे की चारो तरफ फिरकी लिया करतें थे। "राम गोपाल वर्मा निर्देशक थे ना कि हैं" - सर कश्यप।

शाहरुख खान नाम तो सुना होगा। इनका मुख्य काम टीवी पर साबुन, तेल, पावडर, कलर इत्यादि सामान बेचना है। यदि विज्ञापन से समय मिल गया तो फिल्में भी कर लेते हैं। करण जौहर और शाहरुख खान का बहुत पुराना याराना है। करण जौहर की फेवरेट पॅाजीशन आप सब AIB के रोस्ट में देख चुके हैं। करण और खान का प्रेम अग्नि से भी अधिक पवित्र था, करण अपने प्रेम की कसमें खाते हुए कहते थे कि मेरी जो भी फिल्म होगी उसमें ओवरएक्टिंग का काम शाहरुख को ही मिलेगा। 

गांठ अगर पड़ जाये तो फिर रिश्ते हो या डोरी,
लाख छुड़ाओ गे खुलने में वक्त तो लगता है,

अचानक से एक दिन करण जौहर और शाहरुख खान के रिश्ते में दरार पड़ गई। कॅाफी विथ करण के नये सीसन के पहले एपिसोड में शाहरुख खान की जगह कुंवारे सलमान खान कॅाफी पी रहे थे। करण की फिल्मों में शाहरुख को छोड़कर अभिनय करने वाले कलाकार दिखने लगे। जिस अनुराग कश्यप को करण गाली के रुप में प्रयोग करते थे उसके साथ याराना बढ़ने लगा । अनुराग कश्यप की फिल्मों में करण जौहर किसी फिल्म में निर्माता तो किसी फिल्म में सह-निर्माता बनने लगे।

शाहरुख को धीरे धीरे समझ आने लगा कि उसका पहला मर्दाना प्यार उससे दूर जा रहा है। खबर तो यहाँ तक आई कि एक रात शाहरुख ने अपनी कलाई काट लेने की कोशिश की और खून से आय लव यू करण लिख डाला। शाहरुख अपनी विरह की वेदना में जल ही रहा था कि एक दिन करण जौहर ने बॅाम्बे वेलवेट बनाने की घोषणा कर दी। स्लमडॅाग अनुराग कश्यप (रामू के ट्वीटानुसार) के लिए इतनी बड़ी का निर्माता बनना सपने से कम नही था लेकिन दूसरी तरफ शाहरुख को पता था कि यदि ये फिल्म सफल हो गई तो उनका प्यार उन्हें फिर कभी नही मिलेगा।

एक तरफ करण जौहर और अनुराग कश्यप अपनी फिल्म पर काम कर रहे थे और दूसरी तरफ शाहरुख ने अपना प्यार पाने के लिए षड्यंत्र रच रहे थे। इश्क़ और जंग में सब जायाज है। शाहरुख ने अपने साबुन और तेल बेचने का विज्ञापन बढ़ा दिया और उससे जो पैसा मिला उसे बॅाम्बे वेलवेट के नकारात्मक प्रमोशन में लगा दी। आलोचक, पत्रकार और यहाँ तक ट्विटर पर ट्रोल खरीद लिये गए। बॅाम्बे वेलवेट के खिलाफ राय देने वाली ९५% तक जनता ने फिल्म देखी तक नही थी और इस तरह एक महान फिल्म इतिहास में अनुराग कश्यप की आग बनकर अमर हो गई।

फिल्म पिटने के दूसरे दिन करण जौहर को शाहरुख के साथ योगासन करते हुए देखा गया। 

इस कहानी के सभी नाम, पात्र और घटनाएं काल्पनिक है इनका किसी भी वास्तविक घटना से समानता मात्र एक संयोग माना जाएगा 😊

3 टिप्‍पणियां: