​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - कुछ रिश्ते जलाने पड़े

चाँद भी कंबल ओढ़े निकला था,
सितारे ठिठुर रहें थे,
सर्दी बढ़ रही थी,
ठंड से बचने के लिए,
मुझे भी कुछ रिश्ते जलाने पड़े।

कुछ रिश्ते
जो बस नाम के बचे थे,
खींच रहा था
मैं उनको
कभी वो मुझे खींचा करते थे।
सर्दी बढ़ रही थी,
ठंड से बचने के लिए,
मुझे भी कुछ रिश्ते जलाने पड़े।


कुछ रिश्ते
बहुत कमजोर हो चले थे,
उनकी लपट भी बहुत कम थी,
कुछ इतने पतले
की जलने से पहले राख हो गए।
सर्दी बढ़ रही थी,
ठंड से बचने के लिए,
मुझे भी कुछ रिश्ते जलाने पड़े।


कुछ पुराने रिश्ते थे,
मेरे जनम के पहले के,
सजोया था उन्हें मैंने,
उन्हें नही था कोई लगाव मुझसे।
सर्दी बढ़ रही थी,
ठंड से बचने के लिए,
मुझे भी कुछ रिश्ते जलाने पड़े।




​इस रचना पर आपकी टिप्पणी जरूर दे।  हर सोमवार/गुरुवार  हम आपसे एक नया व्यंग्य/कविता लेकर मिलेंगे।  

टिप्पणियाँ

  1. कुछ रिश्ते
    बहुत कमजोर हो चले थे,
    उनकी लपट भी बहुत कम थी,
    कुछ इतने पतले
    की जलने से पहले राख हो गए।

    वाह खूब कही

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी....पर कुछ रिश्ते जलाने पड़े पंक्ति का दोहराव नहीं होता तो एक छोटी नज़्म के तौर पर उत्कृष्ट हो जाती

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हो सकता है, आप उन पंक्त्तियों को हटाकर पढ़ ले

      हटाएं
  3. Padhey! Achhi hai. (Bas thodi si Gulzar saab ki chhaap hai varna bahut achhi kahte.)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद, गुलज़ार साहब प्रेरणा स्रोत हैं तो उनकी छाप होना लाजमी है।

      हटाएं
  4. बहुत खूबसूरत अहसास समेटे ये पोस्ट लाजवाब है |

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें