​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - सितारे जागते रात भर

सितारों की ऐसी क्या मजबूरी होती है,
जो उन्हें रात भर जागना पड़ता है,
चाँद को देखो मन का राजा,
कला बदलता रहता है,
कभी कभी कुछ घंटों के लिए निकलता है,
और अमावस को तो पूरी छुट्टी कर लेता है।

सितारों की ऐसी क्या मजबूरी होती है,
जो उन्हें रात भर जागना पड़ता है,
लेकिन मिटाते है अंधियारा तिमिर का,
रात को जो शायर सो नही पाते,
सितारे ही तो उनका मन बहलाते हैं।

सितारों की ऐसी क्या मजबूरी होती है,
जो उन्हें रात भर जागना पड़ता है,
कुछ सितारों ने तो गिनती भी हमको सिखलाई,
उन्हें ही गिनने के लिए तो शून्य का निर्माण हुआ,
और बना दिए आंकड़े अरब-खरब तक हमने।

सितारों की ऐसी क्या मजबूरी होती है,
जो उन्हें रात भर जागना पड़ता है,
उनका रात को दिखना भी जरूरी है,
नही तो ग्रह नक्षत्रों को कैसे गिनते,
कैसे जानते भविष्य हमारा।

सितारों की ऐसी क्या मजबूरी होती है,
जो उन्हें रात भर जागना पड़ता है।





​इस रचना पर आपकी टिप्पणी जरूर दे।  हर सोमवार/गुरुवार  हम आपसे एक नया व्यंग्य/कविता लेकर मिलेंगे।  ​

2 टिप्‍पणियां: