​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#व्यंग्य - श्यापम घोटाले में मरे ४२ शेर

नारायण नारायण!

नारद मुनि कुछ कहते इससे पहले ही पशुओं के देवता ने उनसे कहा नारदजी आप लगता है पृथ्वी लोक का भ्रमण करके आ रहें हैं। 

"सही कहा देवगण, आज सुबह ही पृथ्वी लोक का भ्रमण करने का प्लान बना। हम भी जो एक बार ठान ले तो किसी की नही सुनते और कोई हमारी पृथ्वी लोक भ्रमण में विघ्न ना उत्पन्न कर दे इसलिए अपनी टेलीपैथी को फ्लाइट मोड पर डाल दिया।"

पृथ्वी लोक के क्या समाचार हैं? नारदजी।

"समाचार के बारे में मत पूछो! पृथ्वी लोक पर चारो तरफ हाहाकार मचा हुआ है। भारत के एक राज्य मध प्रदेश में श्यापम घोटले में ४२ शेर को अपनी जान गवानी पड़ी। अब सभी अखबार शेरों की मृत्यु की खबर से पटे पड़े हैं।"

क्या बात कर रहें हैं नारदजी? पशुओं की हत्या और पशुओं के देवता को इसकी खबर भी नही है। ये BSNL वालों को बोल बोलकर थक गया कि मेरी फोन और इंटरनेट लाईन सही कर दो लेकिन उन्हें हमारे कार्य के लिए फुर्सत ही कहा है।

"चिंता मत करो देवगण, पृथ्वी के बौद्धिक लोगों ने इस मामले का संज्ञान ले लिया और जगह जगह धरना करना, चक्का जाम करना शुरू कर दिया है। एक टीवी चैनल ने तो बड़े बड़े बॅालीवुड कलाकारों और कॅार्पोरेट के लोगों को बुलाकर "सेव द टाईगर" मुहिम की शुरुआत कर दी है। सुनने में आ रहा है मजाक मजाक में बहुत सारा पैसा चंदे के रूप में जमा कर लिया गया है।

इतना ही नही विदेशी अखबार और टीवी चैनल भी इस घोटाले और शेरों की हत्या के मामले को जोर शोर से उछाल रहें हैं । पीटा ने भारत के प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर इस मुद्दे पर संज्ञान मांगा है। इस मामले को राज्य सरकार ने बहुत दबाने की कोशिश की परंतु कुछ ना कर पाए।"

नारदजी सुना है उसी मध प्रदेश में व्यापम घोटाला भी हुआ है। जिसमें उससे जुड़े कई लोगों की संदेहास्पद अवस्था में मृत्यु हो गई।

"सही सुना है देवगण परंतु पृथ्वी लोक पर मनुष्यों का मरना आम बात है वो कोई शेर थोड़ी हैं जिनकी संख्या कम है तो मरने पर हाहाकार मच जाएगा।

एक अखबार ने व्यापाम घोटाले का जिक्र किया है और अभी चित्रगुप्त जी बता रहें थे कि दो दिन बाद उसका संपादक छत से कूदकर आत्महत्या कर लेगा।"



आपकी टिप्पणी हमारे लिए भारतरत्न से भी बढ़कर है इसलिए आपकी टिप्पणी कमेंट बॉक्स में लिखना न भूलें। 

हर सोमवार/गुरुवार  हम आपसे एक नया व्यंग्य/कविता लेकर मिलेंगे।  ​

6 टिप्‍पणियां:

  1. वाह अति उत्तम कमल भाई, व्यंग्य करना तो कोई आपसे सीखे। हर बार कुछ नया ही लाते हैं आप। और मजे की बात है सब एक से बढ़कर एक। मेरी पूरी कोशिश रहती कुछ खामियां निकालने की, पर हर बार नाकाम रहता हूँ। अगर कहा जाए कि,आप व्यंग्य इतिहास के लिविंग लिजेंड हैं,तो कुछ गलत नही होगा।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद, बस अब भारतरत्न मिल जाये

      हटाएं
  2. पशुओं की हत्या और पशुओं के देवता को इसकी खबर भी नही है।
    वाह अति कमाल है

    उत्तर देंहटाएं