​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - गर बोलियाँ एक सी होती

सोचो गर बोलियाँ एक सी होती,
कितनी सरल-संजीदा जिंदगी होती। 

हम सब भी कोयल की तरह कूक भरते,
कभी कौए की तरह काँव काँव चिल्लाते। 

हम सुनते-समझते सभी जीवों को,
सभी के दु:ख को पार लगाते। 

कटते पेड़ आह जो भरते,
हमको व्यथित कर जाते। 

झरने की कलरव से पहाड़ की कथा समझ पाते,
भरकर पानी अपनी चुल्लू में कुछ मदद उसे कर आते। 

घूमते दुनियाँ जी भर के,
सभी को अपनी बोली से प्यार जताते। 

कुछ तो बंट गई है मानवता,
इन बोलियों की विविधता से। 

हम दूर देश में खाना बदोश हो जाते,
सबके मनोरंजन का लुत्फ उठाते। 

कुछ तो बंद हो जाते झगड़े,
भाषा के नाम पर जो होते हैं। 

हंसते-गाते, मौज उठाते,
जीवन को आनंद बनाते। 

सोचो गर बोलियाँ एक सी होती,
कितनी सरल-संजीदा जिंदगी होती। 

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें