​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#व्यंग्य - चाय में गिरी बिस्कुट - होगी सीबीआई जाँच

कुछ दिन पहले एक ट्विटर सेलेब के बिस्कुट चाय में गिर गई। उस बिस्कुट को बाहर निकालने गई दूसरी बिस्कुट भी उसी चाय में लापता हो गई। जैसे ही ट्विटर पर ये खबर सामने आई, वैसे ही इस मुद्दे पर गुटबाजी शुरू हो गई। केजीरवाल समर्थकों ने कहा की मुद्दा गंभीर हैं, वो और उनके कार्यकर्ता बिस्कुट खोजने जाना चाहते थे लेकिन दिल्ली पुलिस ने उन्हें रास्ते में रोक लिया और हमेशा की तरह उपराज्यपाल केंद्र की इशारे पर आम आदमी पार्टी को काम नहीं करने दे रहें हैं। वही अंकित लाल ने केजरीवाल जी का बिस्कुट खाते हुए फोटो पोस्ट किया, जो एक अमेरिकन अभिनेता की फोटो को फोटोशॉप करके बनाया गया था।
​​
मुद्दा गंभीर हो चला था तो आदर्श लिबरल और प्रेस्टीट्यूट भी मामले में कूद पड़े। मोदी जी को चारो तरफ से घेर लिया गया। एक प्रेस्टीट्यूट ने यहाँ तक कह दिया की यदि मोदी जी बिस्कुट लापता होने के मामले में गंभीर हैं तो उन्हें बिस्कुट के साथ फोटो खिंचवाकर ट्विटर पर पोस्ट करना चाहिए। आदर्श लिबरल ने लापता दोनों बिस्कुटों को अल्पसंख्यक बताया है, उनके अनुसार वो गेहूँ की आटे का उपयोग करके हाथ से बनाया गया बिस्कुट था और मोदी सरकार जब से सरकार में आई है तब से वो मैदे की बिस्कुट को बढ़वा देने का कार्यक्रम चला रहें है और इस अल्पसंख्यक बिस्कुट के लापता होने में हिंदुत्व का मुद्दा शामिल है। 

इस मुद्दे पर भाजपा समर्थक अक्का "भक्त" मोदी जी के बचाव में लग गए। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की एक टुकड़ी नागपुर से सेलेब सर के घर की तरफ रवाना कर दी गई। भाजपा समर्थकों ने उसकी फोटो सोशल मीडिया पर पोस्ट करते हुए कहा की पिछले ६५ सालों में कांग्रेस सरकार के समय कई बिस्कुट चाय में जाकर लापता हो गए लेकिन उस वक़्त किसी ने इस बात को मुद्दा नहीं बनाया और जब एक गरीब परिवार से आया व्यक्ति प्रधानमंत्री बन गया है तो हर कोई इस मुद्दे को बेवजह बढ़ा रहा है। कुछ भाजपा समर्थक ने आदर्श लिबरल और प्रेस्टीट्यूट से मैदे से बनी बिस्कुट पारले जी जिसकी कई पीढ़ियों ने चाय में गिरकर आत्म बलिदान कर दिया उसके पक्ष में आवाज उठाने की मांग कर दी। यह लेख लिखे जाने तक ओ पी इण्डिया ने एक काउंटर लेख लिखकर लोगों को बताया की मोदी जी पर मैदा विरोधी होने का इल्जाम गलत है क्योंकि वो तो स्वयं बाबा रामदेव के योग और गेहूँ के आटे की बिस्कुट का समर्थन करते हैं और उनकी पार्टी की नेता हेमा मालिनी उसका टीवी पर प्रचार भी करती हैं।  

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने मामले का संज्ञान लेते हुए बिस्कुट का चाय में गिरना और लापता होना एक दुःखद घटना बताया है। साथ ही उन्होंने इस मामले पर हो रही सियासत की निंदा करते हुए ट्विटर सेलेब को ११ रुपये मुआवजा देने की घोषणा की है। उन्होंने कहा की इस मुद्दे की जाँच अब सीबीआई के हवाले कर दी गई है और यदि सच को सामने लाने के लिए सीबीआई को ट्विटर सेलेब का पेट भी फाड़ना पड़ा तो फाड़ दिया जाएगा लेकिन सत्य सबके सामने आकर रहेगा। "सत्य विचलित हो सकता है लेकिन पराजित नहीं हो सकता है" कहकर उन्होंने अपने प्रेस कांफ्रेंस को समाप्त किया।  

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें