​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - चलो खरोचकर एक लमहा निकाले

चलो खरोचकर एक लमहा निकाले, 
तराशे उसे और खुशियों से भर दे,

वो पुरानी यादें जो दबी पड़ी हैं,
लहमे की कुदाल से खनकर निकाले,

कुछ लमहे जो घीसकर कमजोर हो गएँ,
उन्हें तंदुरुस्ती की थोड़ी कसरत कराएँ,

एक लमहा जो बचपन में बिछड़ गया था,
सुना है आज कल वापस आ गया है,

वो लमहा लटक गया था बाहों को धरकर,
पुरवाई चलने पर अभी भी दर्द होता है,

चलो खरोचकर एक लमहा निकाले, 
तराशे उसे और खुशियों से भर दे,

टिप्पणियाँ

  1. वो पुरानी यादें जो दबी पड़ी हैं,
    लहमे की कुदाल से खनकर निकाले,

    ...आँखों के समक्ष चलता एक चलचित्र..बहुत मर्मस्पर्शी भावमयी रचना जो अंतस को छू जाती है..

    उत्तर देंहटाएं

एक टिप्पणी भेजें