​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#कविता - टीवी से उधड़ते रिश्ते

वो कबूतर जो रोज मेरी छत पर आते थे,
आज दिखे नहीं,
वो टीवी का जो एन्टिना लगाया है,
उससे चकमा खा गए होंगे।

सुना है,
टीवी ने कई रिश्ते उधेड़ दिए,
लोग साथ बैठकर तकते हैं डब्बे में,
उन्हें फुरसत नही कुछ बातें करने की।

वो अंताकछड़ी जो खेलते थे,
और आतंक मचाते थे,
दादा जी की वो मीठी गालियाँ,
फिल्मी गानों की तर्ज पर,
वो दब गई है टीवी की आवाज में।

धीरे-धीरे लोगों को टीवी के किरदार याद हो रहें हैं,
कहानियाँ किरदारों की रट ली है लोगों ने,
अब फोन पर भी बात करते हैं तो
उन किरदारों का जिक्र होता है।

कबूतर आज नही तो कल
फिर से छत का अंदाज समझ जायेंगे,
लेकिन,
वो उधड़ते रिश्ते कब फिर जुड़ेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें