​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#व्यंग्य - आप भी सफल लेखक बन सकते हैं?

सोशल मीडिया के चलन में आने के बाद आज कल हर कोई अपने प्रोफाइल में लेखक लिख देता है। भारत में लेखकों को कीमत पहले से ही बहुत दयनीय रही है और ऊपर से सोशल मीडिया के चलते लेखक समाज में कुकुर मुत्ते की तरह पनपने लगा है

सोशल मीडिया की प्रोफाइल में लेखक लिख देन से आप स्वयं घोषित लेखक तो बन सकते हैं लेकिन लिखकर सोशल मीडिया प्रोफाइल पर लेखक लिखकर सफल लेखक बनना तो मुश्किल है, तो फिर सफल लेखक बनने के लिए क्या करना चाहिए?

सबसे पहले आपको कुछ ऐसा लिखना चाहिए जिससे किसी की भावना आहत हो। समाज सुधार करने के लिए या समाज को जागरूक बनाने के लिए लिखना अब बीते दिनों की बात हो गई। यदि आपके लिखने से किसी की भावना आहत होगी तो वो आपके खिलाफ धरना देगा, आपका पुतला जलाएगा।

जब आपके खिलाफ धरना शुरू होगा, आपका पुतला जलेगा तब समाज के बौद्धिक लोग आपके समर्थन में खड़े हो जाएंगे। दो गुट मिलकर आपस में आपके लिखे हुए पर झगड़ा करेंगे और देखते - देखते आप प्रसिद्ध हो जाएंगे और फिर सफल लेखक बनने का आपका सफर आरंभ हो जायेगा 

नोट - लोगों की भावनाओं को आहत करते समय इस बात का ध्यान रखिएगा कि आप इस्लाम धर्म, इस्लाम के पैगंबर और इस्लाम धर्म के मानने वालों को आहत करने वाला लेख नहीं लिख रहें हैं क्योंकि आहत होने के बाद इस्लामिक कट्टरपंथी धरना नहीं देते हैं और ना ही पुतला जलाते हैं।

ऊपर से इस्लाम धर्म के लोगों को आहात करने पर समाज के बौद्धिक लोग भी आपको और आपके अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को इस धर्म को आहत करने जितना महत्वपूर्ण नहीं मानेंगे और आप का साथ भी नहीं देंगे और आप के सफल लेखक बनने की चाहत आपके साथ मसान में जल जायेगी। 

टिप्पणियाँ