​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#व्यंग्य - ट्विटर योद्धा की जीवनी

नोकिया के सिम्बियन फोन से जैसे - तैसे ट्विटर स्क्रीन को स्क्रोल करते हुए ट्विटर योद्धा ने एक उपनाम सोचकर गूगल से एक फोटो उठाकर अपना ट्विटर अकाउंट बनाया। रोज सुबह और शाम पड़ोसी के इंटरनेट कनेक्शन से इन्होंने अपने ट्विटर जीवन की शुरुआत की।

लोकतंत्र में नेताओं के विचारों को ओनलाइन चुनौती देते हुए ट्विटर योद्धा अपनी फॅालोविंग लिस्ट धीरे - धीरे बढ़ाते गए। दुख के बाद सुख आना था तो ट्विटर योद्धा ने सिम्बियन को छोड़ एन्ड्रॅाइड की राह को पकड़ा और साथ में जेब खर्च से इंटरनेट रीचार्ज करवाने लगे।

हिंदी, गणित, इतिहास, भूगोल, विज्ञान, सामाजिक शास्त्र और अर्थशास्त्र में परिपक्व ज्ञान रखनेवाले ट्विटर योद्धा ने अपना जीवन देश के नाम समर्पित करते हुए, देश के हर मुद्दे पर लोगों को अपने ज्ञान से अवगत कराया।

शीला की जवानी से लेकर मुन्नी की बदनामी से लेकर ट्विटर योद्धा ने समाज के सामने झूठ को बेनकाब किया और सच को लोगों के सामने प्रस्तुत किया। कुछ ट्विटर योद्धा लोभी निकलें तो उन्होंने अपने ट्वीट के साथ अपनी आत्मा को बेचते हुए गलत पक्ष का दामन भी पकड़ लिया।

भ्रष्टाचार के खिलाफ हुए आंदोलनों में ट्विटर योद्धा ने अपने बॅास की झड़प और रात को मोबाइल चलाने के लिए माँ की डांट की परवाह ना करते हुए जमकर रीट्विट का सेवन किया। ट्विटर योद्धा ने समाज को जगाने के लिए जो अहम भूमिका निभाई है उसे जनम जनमांतर तक समाज भुला नहीं पाएगा।

ट्विटर योद्धा ने हेय दृष्टि से देखी जानेवाली भाषा हिंदी को पुनः जीवित किया और अपने ही देश में सौतेली हो चली हिंदी भाषा को उनका खोया हुआ सम्मान वापस दिलवाया। ट्विटर योद्धा ने अपने जीवन को आवश्यकता से अधिक सच सामने लाते हुए ट्विटर के ससपेंड पर्याय पर एक दिन सच की लड़ाई लड़ते हुए कुर्बान कर दिया।

टिप्पणियाँ

एक टिप्पणी भेजें