​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

#हास्य - कुंदरू की खेती पर योगी सरकार ने लगाई रोक - मीडिया ने बताया बड़ा फैसला

उत्तरप्रदेश की सत्ता संभालते ही योगी सरकार ने पूरे भारत के लिए एक अहम फैसल लेते हुए कुंदरू की खेती पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दिया है। योगी सरकार के प्रवक्ता ने कहा, "कुंदरू की सब्जी राहुल गाँधी की तरह है, जिसे पसंद कोई नहीं करता लेकिन वो बाज़ार में बिकने के लिए हमेशा पहुँच जाती है।"

आपके लोगों की जानकारी के लिए बता दें कि कुंदरू एकदम बेहया किस्म की प्रजाति है अर्थात इसे उगाने के जरुरत नहीं पड़ती है, यह स्वयं मौका देखकर चौका लगाने के लिए पैदा हो जाती है। कुंदरू की खेती पर रोक लगाकर योगी सरकार जनता में यहाँ संदेश भेजना चाहती है कि वो किसी धर्म और पंथ के लिए नहीं अपितु समाज कल्याण के लिए काम कर रहें हैं। 

हिंदू - मुस्लिम धर्म के लोगों ने हमेशा से कुंदरू के प्रति विरोध दर्ज कराया है और योगी सरकार की इस नीति को उनकी सरकार की एक सफल नीति के रूप में बताया है। मीडिया के लोगों ने इस कदम को सरकार का एक कड़ा फैसला बताया है। जिससे ऑफिस जाने वाले वर्ग में उत्साह वृद्धि होगी जब उन्हें कुंदरू की सब्जी हर दूसरे दिन खाने के डिब्बे में नहीं दी जाएगी। 

कुंदरू की खेती पर रोक लगाने से सिर्फ वो बुद्धिजीवी वर्ग नाराज है जो खाने में पनीर और मुर्गा - मटन के अलावा कोई दूसरी भाजी पसंद नहीं करते हैं। योगी सरकार ने ऐसे लोगों को समाज में वैमनस्य उत्पन्न करने के लिए मन किया है। 

टिप्पणियाँ