​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

कल रात ख़्वाबों में


कल रात ख़्वाबों में
ग़ालिब से मुलकात हो गई,
बातें वही पुरानी,
बल्ली मारा के मोहल्लों की,
अगरचे बदले नहीं ग़ालिब,
बस अब थोड़ा झुककर चलते हैं।

उनके साथ चलकर 
पुरानी दिल्ली तक पहुँचा,
खड़े मिले वहीं प्रेमचंद,
ज़िक्र करते
लखनऊ की गलियों के,
कहानी उन्होंने खूब सुनाई,
बुधिया और घीसू की। 

अचानक से नज़्म कानों में पड़ी,
मुंबई की गलियों में था मैं,
खड़े गुलज़ार बयां कर रहें थे,
आबशारों के अहसास करिने से,
सुनाते गिलोरी की ज़ुबान में,
किस्से दीना के। 

कल रात ख्वाबों में,
ग़ालिब से मुलकात हो गई,
कल रात ख्वाबों में,
प्रेमचंद से बात हो गई,
कल रात ख्वाबों में,
गुलज़ार से किस्सागोई हुई। 

कल रात ख़्वाबों में ..... 


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें