​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

हिंदू LED बल्बों से माइनॉरिटी ट्यूब लाइटों को बढ़ा खतरा

धर्म विशेष की ट्यूब लाइट ने हिंदू घरो में जलने से किया इनकार। ट्यूब लाइटों ने अपने धर्म की अन्य ट्यूब लाइटों पर हो रही हिंसा के चलते उठाया यह कदम। ट्यूब लाइट ने अपने बयान में कहा कि पिछले कई दिनों से कई हिंदू घरों से ट्यूब लाइट को निकालकर घर के बाहर कड़ी धूप में छोड़ दिया गया। बढ़ती गर्मी के चलते कई ट्यूब लाइटs डीहाईड्रेट होने के बाद अल्लाह ताला को प्यारे हो गए।

ट्यूब लाइट बोर्ड के अध्यक्ष ने अपने मजहब के लोगों के ऊपर बढ़े इस अत्याचार के लिए सरकार को दोषी ठहराया है। उनका मानना है कि जब से केंद्र में हिंदू सरकार आई है, तब से हिंदू LED बल्बों को बढ़ावा दिया जा रहा है और माइनॉरिटी समुदाय की ट्यूब लाइटों को सोची - समझी साजिस के चलते सभी जगहों से निकाला जा रहा है।

पाकिस्तान ने UN में  ट्यूब लाइटों के साथ भारत में हो रहे, बर्बरतापूर्ण अपराध के खिलाफ पेटिशन दाखिल किया है। जिसका संज्ञान लेते हुए UN के अध्यक्ष ने हर साल १५ जून को  ट्यूब लाइट शहीद दिवस के रूप में मनाये जाने का निर्णय लिया है। विश्व अलक़ायदा आतंकवाद संघठन ने UN की घोषणा के बाद रूस, फ़्रांस और जर्मनी में आत्मघाती हमले कर, ट्यूब लाइट शहीद दिवस को हरी झंडी दिखा दिया है। 

भारत सरकार ने अपने बयान में ट्यूब लाइटों पर किए जाने वाले सभी आरोपों को ख़ारिज कर दिया है। भारत सरकार के माइनॉरिटी मंत्री ने बताया कि सरकार के घर वापसी कार्यक्रम के तहत, सभी ट्यूब लाइटों को LED बल्ब में बदल दिया जाएगा और जो ट्यूब लाइट शहीद हो चुकी हैं, उनके परिवार को प्रधामंत्री राहत कोष से एक दर्जन LED बल्ब की राहत दी जायेगी।

भारत सरकार के बयान आने तक हिंदू घरों में जलने से मना करनेवाली ट्यूब लाइटों को घरवापसी कार्यक्रम के तहत, LED बल्ब में कन्वर्ट करके दूसरे देशों में एक्सपोर्ट कर दिया गया। 

​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

टिप्पणियाँ