​पुरानीबस्ती पर प्रकाशित सभी ख़बरें सिर्फ अफवाह हैं, किसी भी कुत्ते और बिल्ली से इसका संबंध मात्र एक संयोग माना जाएगा। इन खबरों में कोई सच्चाई नहीं है। इसे लिखते समय किसी भी उड़ते हुए पंक्षी को बीट करने से नहीं रोका गया है। यह मजाक है और किसी को आहत करना इसका मकसद नहीं है। यदि आप यहाँ प्रकाशित किसी लेख/व्यंग्य/ख़बर/कविता से आहत होते हैं तो इसे अपने ट्विटर & फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और अन्य लोगों को भी आहत होने का मौका दें।

क्यों राजनाथ सिंह को गृहमंत्री पद से हटा नहीं सकते मोदी?

एक के बाद एक आतंकी और माओवादी हमले में जवानों के शहीद होने के बाद अब अमरनाथ यात्रा के यात्रियों को आतंकवादियों ने जान से मार दिया। कश्मीर में भारत के लोगों का मरना बहुत आम बात है लेकिन इसके बावजूद राजनाथ सिंह भारतीयों के मरने से चिंतित दिखने की कोशिश करते रहते हैं। वहीं दूसरी तरफ मनमोहन सिंह को आतंकवाद से लड़ने के लिए अलग - अलग तरह के प्लान ट्वीट से बतानेवाले नरेंद्र मोदी भी प्रधानमंत्री बनते ही आतंकवादियों से निपटने वाले गुर भूल गए हैं। 

ट्विटर पर राजनाथ सिंह को एक महिला ने जब आतंकवाद से लड़ने के लिए कड़े कदम उठाने के लिए बोला तो राजनाथ सिंह उस महिला पर नाराज हो गए। चूँकि अपनी नाकामियों के चलते वो अभी तक आतंवादियों के हाथों मूकी खाते रहें हैं तो उन्होंने इस महिला को कड़ी निंदा के जगह जवाब दे दिया और बेचारी को अपना अकाउंट डिलीट करना पड़ गया। राजनाथ सिंह ने अपनी निंदा को मनमोहन सिंह की निंदा से अच्छी बताते हुए कहा कि मेरी निंदा में हिंदी का सही और शुद्ध उपयोग किया जाता है। 

नरेंद्र मोदी ने निंदा के धंधे को आगे बढ़ाते हुए पिछली बार अपने ट्विटर हैंडल से अंग्रेजी में निंदा किया था जो उनके अल्प अंग्रेजी ज्ञान को देखकर आतंकवादियों के चेहरे पर करारा तमाचा माना जा रहा है। नरेंद्र मोदी ने अपने कैबनेट कमिटी को चेताते हुए कहा कि राजनाथ सिंह जैसा दूसरा होनहार और मेरी तरह बातों का राजा कोई और नहीं है इसलिए हम राजनाथ सिंह को गृहमंत्री के पद से नहीं हटा सकते हैं। 

वहीं एक ट्विटर समर्थक ने मोदी को ट्वीट करके बताया - "सर यदि निंदा करने से काम चल जाता तो मनमोहन सिंह आपसे अच्छी आवाज और अंग्रेजी में निंदा कर लेते थे।"

राजनाथ मामा पहन पजामा,
प्रेसवार्ता करने आये हैं,
सवालों का जवाब नहीं दे पाए,
ट्रोल किया महिला को धक् से,
आतंकवादियों ने लोगों को मारा,
निंदा कर दिए भक्क से। 

टिप्पणियाँ