#हास्य - काँग्रेस में हार की जिम्मेदारी लेने के लिए मचा घमसान

उत्तर प्रदेश के चुनाव ४०३ में से ७ सीट पाने पर कुछ काँग्रेसी नेताओं में ख़ुशी की लहर दौड़ गई।

एक काँग्रेसी नेता ने अपना नाम गुप्त रखने की शर्त पर कहा, "काँग्रेस उत्तरप्रदेश में जीत जाती तो राहुल गाँधी को जीत का सारा श्रेय दिया जाता और हम लोगों को कुछ नहीं मिलता। अब जब कांग्रेस उत्तरप्रदेश चुनाव में हार गई है तो सभी आगे बढ़कर हार की जिम्मेदारी लेना चाहते हैं। जिससे उनका पार्टी में आगे बढ़ने का रास्ता साफ हो जाए।"

दिल्ली में हो रही एक सभा में जब काँग्रेस के नेता आपस में हार की जिम्मेदारी लेने के लिए लड़ रहें थे, उसी वक़्त काँग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन जी ने सोनिया गाँधी से हाथ जोड़कर निवेदन किया, "मुझे इस बार विपक्ष के नेता की सीट तक नहीं मिली और यदि संभव हो तो उत्तरप्रदेश चुनाव में हार की जिम्मेदारी मुझे दे दीजिए।"

मल्लिकार्जुन जी की बात पर दिग्विजय सिंह नाराज हो गए और चिढ़कर कहा, "अन्ना आप ठीक से हिंदी तो बोल नहीं पाते, उत्तरप्रदेश में हार की जिम्मेदारी आपको क्यों दे, यह तो जनता के साथ धोखा होगा।"

दिग्विजय सिंह की बात सुनने के बाद मल्लिकार्जुन जी अल्थी - पल्थी मारकर जमीन पर बैठ गए। 

काँग्रेस के सभी नेताओं को आपस में हार की जिम्मेदारी के लिए झगड़ता देख, राहुल गाँधी ने कहा, "मैं ३० दिन की यूरोप यात्रा पर जा रहा हूँ। मेरे लौटने के बाद हार की जिम्मेदारी लेनेवाले नेता का चुनाव लोकतांत्रिक पद्धति से किया जाएगा।"

यदि आपको लेख पसंद आया तो इसे अपने ट्विटर, फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और ब्लॉग को सब्सक्राइब करें।
यदि आपको लेख पसंद आया तो इसे अपने ट्विटर, फेसबुक अकाउंट पर शेयर करें और ब्लॉग को सब्सक्राइब करें।