#कविता - नज्म जगा गई

कल रात एक नज्म जगा गई थी,
कहती है शायर अब मेरी जानिब नही आते,
वो जो बिछौना पुराना छोड़ गए थे,
अब उसके चिथड़े  होने लगे हैं,

तुम्हारी यादों की कतरन से,
एक बेना बनाया है,
ठंड हो तो भी उसे डोलाकर,
सर्द होती है।

याद आती है तुम्हारी,
वो आधी रातों को जगकर,
तुम्हारा मुझसे गुफ्तगू करना,
मुझे गुदगुदा कर जगाये रखना।

एक डेबरी जो तुम जलाते थे,
स्याह रातों में,
बिना जले उसकी बाती,
अब घटने लगी है।

चले आओ शायर,
के अब कुछ दिन की जिंदगानी हैं,
एक बार देख लू तुम्हें,
तो अपने मर्कज की तरफ बढ़ू।




विशिष्ट पोस्ट

#कविता - क्या होगी पेड़ों की जात

क्या होगी  पेड़ों  की जात, कभी सोचा है आपने, सवाल अटपटा है, लेकिन क्यों नही  बांटा उसे हमने जात-पात में, चलो एक एक करके, बांट ते हैं  पेड़...